गर्लफ्रेंड के घर जाकर उसकी माँ सोमवती की चुदाई ( Girlfriend ki Maa Ki Chudai )

Girlfriend ki Maa Ki Chudai ki kahani – गर्लफ्रेंड के घर जाकर उसकी माँ सोमवती की चुदाई दोस्तों आज की Hindi Sex story की कहानी मे हम आपके लिए Girlfriend ki Maa Ke sath sex Story Hindi लेकर आये है Maa ke sath chudai ki kahani पढ़िए और एन्जॉय कीजिये| somvati aunty ki Sex Story Hindi Kahani

Girlfriend ki Maa Ki Chudai 2021 New Hindi Sex Story

हाई दोस्तों, मेरा नाम विनय हैं और मैं up का रहने वाला हूँ. दोस्तों मुझे चूत में और गांड में लोड़ा देने में बहुत मजा आता हैं और मेरी एक गर्लफ्रेंड भी हैं. उसका नाम चंचल हैं इस लड़की की चूत में मैंने अभी तक बहुत बार भी लोड़ा दिया हैं. उसके घर पे भी मुझे सब जानते हैं और वो मुझे उसका केवल दोस्त समजते हैं. मैंने इसी बात का फायदा उठा के चंचल की चूत में उसके घर पे ही कितनी बार लौड़े से खुदाई की हुई हैं. लेकिन आज मैं आप को उसकी माँ की चूत में लोड़ा देने की बात बताने जा रहा हूँ. चंचल की माँ का नाम सोमवती हैं और वो किसी भी एंगल से 35 साल के उपर की नहीं लगती हैं. वैसे वो हैं तो 35 के ऊपर लेकिन उसने अपनी गांड, चुंचे और शरीर का कसाव अभी भी ऐसे रखा हैं की वो जवान जैसे ही दिखती हैं. उसके चुंचे बड़े, गोल और लचीले हैं. मैंने एक दो बार जब वो घर के बाहर कपडे धो रही थी तब ऊपर की नंगोल से देखा था. ऊपर से उसके चुंचो के बिच की गली बहुत ही मादक दिखती थी; लेकिन चंचल मेरे साथ होने से मैं ज्यादा देख नहीं पाता था. यह बात जून 2012 की हैं, सनीचर का दिन था और कोलेज से हम लोग जल्दी घर आ गए थे. चंचल ने मुझे उसके घर उसकी चूत में लौड़ा डालने के लिए बुलाया था, पढाई के बहाने.

साली मुझे बुला के पिज़ा खाने भाग गई

मैं जब चूत में लोड़ा देने के सपने देखता हुए उसके घर पहुंचा तो मुझे सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने बताया की चंचल तो रीता और निम्मी के साथ पिज़ा खाने के लिए चली गई हैं. मैं इस बात से चिढ गया की साली मुझे चुदाई के लिए बुलाती हैं और खुद पिजा खाने भाग गई हैं. मैं घर के बहार से ही निकलने वाला था लकिन सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ के कहने पे मैं अंदर गया और बैठा. मैंने चंचल को वहीँ से फोन किया और उसने मुझे कहा की उसे आने में अभी 1 घंटा लगेगा. मैंने उसे कहा ठीक हैं. उसने मुझे इशारो इशारो में अपने कमरे में वेट करने के लिए कहा. साली की चूत में खुजली थी तो फिर पिज़ा खाने क्यूँ गई थी. मुझे गुस्सा आ रहा था लेकिन सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ खड़ी थी इसलिए मैंने आराम से बात की. सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ तभी पानी ले के आई और मेरे सामने सोफे में बैठ गई. मैंने देखा की मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की लॉन्ग गाउन पीछे से फटी हुई थी और अंदर की काली पेंटी दिख रही थी. शायद मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने गाउन के निचे सिर्फ ब्रा पेंटी पहनी थी. बहुत सारी औरतो को ऐसे खुले में घुमने का सौख होता हैं. मेरा लोड़ा वैसे भी चूत में जाने के लिए तो तैयार था और मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की पेंटी देख के मैं और भी होर्नी हो गया. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ को मैंने अंकल के बारे में पूछा. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने बताया की घर के नौकर श्यामू काका के वहाँ शादी हे इसलिए अंकल वहाँ गए हैं. घर में उस वक्त मेरी गर्लफ्रेंड की माँ और मेरे अलावा कोई नहीं था. और एक कहावत के अनुसार मेरेदिल मैं शैतान जाग ही उठा था. लेकिन मैंने सोचा की माँ को छेड़ा तो बेटी की चूत से भी हाथ धोना पड़ेगा. तभी मेरी गर्लफ्रेंड की माँ उठ के मेरे लिए सेब काट के ले आई और अब की बार वो मेरे पास आके बैठ गई.

मेरी गर्लफ्रेंड की माँ के सेक्सी बूब्स चूस डाले

मुझे सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ का यह कदम शक पैदा करने वाला लगा. उसने अपनी जांघो को मेरी जांघो से सटा के रखी हुई थी. मेरी साँसे फूलने लगी और साथ साथ मेरा लोड़ा भी. मैं मेरी गर्लफ्रेंड की माँ से नजरे नहीं मिला पा रहा था क्यूंकि मेरे दिल में खोट थी उसकी चूत चोदने की. लेकिन जबब मैंने मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की तरफ देखा तो वो भी जैसे नजरे चूरा रही थी. तो क्या सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ को भी मुझ से चुदवाना था.? मैं मनोमन सोचने लगा की चलो देखते हैं की बूढी घोड़ी कहाँ तक भागती और भगाती हैं. मैंने हलके से अपनी जांघ को मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की जांघ से थोडा और सटा दिया और मेरी गर्लफ्रेंड की माँ कुछ नहीं बोली. मेरे होश तो तब उड़ने वाले थे जब मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने मुझे कहा, विकास चलो बेडरूम में बैठेंगे. यहाँ गर्मी हैं, मैं वहाँ एसी चला देती हूँ. मैं सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत में हुई खुजली को भांप गया. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ मेरे आगे चल रही थी और मैं उसकी इधर से उधर मटक मटक के चलती मटके के जैसे गांड को देख रहा था. मेरा लोड़ा अब काबू के बाहर होने लगा था. बेडरूम को अंदर से बंध कर के मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने मुझे बिठाया और एसी ओन कर दी. मुझ से रहा नहीं गया और मेरी गर्लफ्रेंड की माँ जब स्विच के पास थी तभी मैंने खड़े हो के टेबल से मैगज़ीन इस तरह उठाये की मेरा लोड़ा उसकी गांड के उपर टच हो गया. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ कुछ भी नहीं बोली. लेकिन मेरे लौड़े की गर्मी उसे जरुर महसूस हुई होगी. मैंने जानबूझ के एक दो मैगज़ीन टटोले ताकि लोड़ा और गांड का कनेक्शन थोड़ी देर तक जमा रहे. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ कुछ नहीं बोल रही थी, ना वो अपनी गांड हटा रही थी. मैंने मैगज़ीन को वापस रखा और सीधे मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की कमर के ऊपर हाथ रख के उसे सहलाने लगा.

मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की साँसे फुल चुकी थी, शायद उसकी चूत भी मेरे जैसे जवान लोड़ा का सहवास मांग रही थी. और मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने आज मौका देख के मेरे लोड़ा को चूत से भिगोने का फैसला कर ही लिया था शायद. मैंने अपने हाथ को अब मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की कमर से उठा के उनके बूब्स के उपर रख दिए. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ बोली, विकास क्या कर रहे हो. मैंने कहा मेरी गर्लफ्रेंड की माँ कुछ नहीं, बस आप बहुत प्यारी हैं इसलिए आप को प्यार दे रहा हूँ. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने हंसी से मेरे जवाब को चुदाई की मुहर लगा दी. मुझे उसके हंसने से पता चल गया की उसे भी लोड़ा की खुराक अपनी चूत में लेने का मन था ही. मैंने उसके गाउन को उठाया. सर्कस के तंबू के जैसे गाउन को उठाते ही मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की लाल ब्रा और काली पेंटी मेरे सामने आ गए. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने ब्रा पेंटी के ऊपर ही गाउन डाल दिया था वैसा मेरा अंदाजा बिलकुल सही था. मैंने मेरी गर्लफ्रेंड की माँ के कंधे को पकड़ के उनको अपनी तरफ घुमाया और धीरे से उनके बूब्स को पकड़ लिया. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ के बूब्स बड़े थे लेकिन लचीले और अंदर से सख्त थे. मैंने पीछे हाथ ले जा के ब्रा का हुक खोल दिया. बिलकुल किसी जवान औरत के जैसे ही मेरी गर्लफ्रेंड की माँ के चुंचे मस्तियाँ रहे थे. मैंने चुंचो को थोडा मसलने के बाद अपना मुहं उनके उपर रख दिया. आह मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की सेक्सी निपल्स मेरे मुहं में थी…सच बताऊँ दोस्तों चंचल के चुंचो से तो उसकी माँ के चुंचे ज्यादा अच्छे थे. मैंने जोर जोर से दोनों चुंचो का रसपान किया और मेरी गर्लफ्रेंड की माँ मेरे शर्ट के बटन खोलने लगी.

देखते ही देखते मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने मुझे नग्न कर दिया. वो मेरे लोड़ा को अपने हाथ से मल रही थी और मुझे उसके ऐसा करने से बहुत ही मजा आ रहा था. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने लोड़ा के सुपाड़े को अपने दोनों हाथ के बिच पकड़ा और जैसे वो बेलन को हाथ के बिच रगड़ रही हो वैसे रगड़ने लगी. मुझे मेरी गर्लफ्रेंड की माँ का यह अजीब खेल समझ में नहीं आया लेकिन मजा उसमे जरुर भरा हुआ था. सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की पेंटी को मैंने अब धीरे से उतारा. उसकी चूत में चांदी जैसे चमक थी, साली मेरी गर्लफ्रेंड की माँ बाल भी नीकाल के बैठी हुई थी.

मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत में ऊँगली और जीभ  डाली और फिर उसको लोड़ा चुसाया

मैंने मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत में धीरे से अपनी ऊँगली डाली और ऊँगली की चारोतरफ मुझे चिकनाहट और गर्मी का अहेसास हो रहा था. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने अपनी आँखे बंध कर दी, उसके लिए यह शायद असहय हो चला था. मैंने ऊँगली को जरा सा जोर लगा के पूरी के पूरी उसकी चूत में दे दी. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ आह ओह ओह आअह्ह्ह्ह कर रही थी और मैंने उसकी चूत को अपनी ऊँगली से मस्त चोद रहा था. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ अब बिस्तर के ऊपर लेट गई और मैं जा के उसकी दोनों टांगो के बिच बैठ गया. मैं इतनी चिकनी चूत को देख के उस में जबान डालने का मौका जाने नहीं देना चाहता था. मैंने सीधे अपनी गर्दन को झुकाया और मेरी गर्लफ्रेंड की माँ के चूत में जबान डाल दी. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की आह आह और भी तेज हो गई. मैंने धीरे धीरे कर के पूरी जबान को चूत में घुसा डाला. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने मेरे माथे के बालो नोंच डाला. उसे भी इस सेक्सी मुखमैथुन से बहुत मजा आ रहा था. मैंने मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की दोनों जांघो को पकड़ा हुआ था और मैं उसकी चूत की गहराई तक अपने जबान से जैसे की चुंबन दे रहा था. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ आह आह ऊह ओह ओह आह…विनाय्य्य्यय्य्य्य …ऐसे आवाज निकाल रही थी. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चिकनी चूत को चाटने का अपना अलग ही मजा था दोस्तों. मैंने चंचल की चूत भी अगिनित बार चाटी थी इस से पहले. शायद मैं बहुत कम लोगो में से था जिसने माँ बेटी दोनों की चूत चाटने का सौभाग्य पाया था. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ भी अब मस्त मस्तियाँ गई थी उसने मेरे बड़ी जुल्फों को नोंच के बड़ी ख़राब कर दी थी. मैंने अब खड़े हो के अपना लोड़ा सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ कके मुहं के करीब रख दिया. सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ को पता था की उसे क्या करना हैं, उसने सीधे लोड़ा के सुपाड़े के ऊपर अपनी जबान फेरी और अपनी चूत में ऊँगली डाल दी. वो एक तफ़र अपनी चूत को ऊँगली कर रही थी और इधर मेरे लोड़ा को चूस रही थी. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने बहुत ही सेक्सी तरीके से लोड़ा को चूसा था. वो जैसे की स्ट्रॉ से कुछ पी रही हो वैसे लोड़ा को खिंच खिंच के चूस रही थी. मैंने भी मेरी गर्लफ्रेंड की माँ के मुहं को दोनों हाथो के बिच में लिया और अपने लोड़ा के जोर जोर के धक्के उसके मुहं में मारने लगा. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ के मुहं से थूंक निकल के उसके होंठो की साइड से बाहर आ रहा था. उसके मुहं की माँ चुद गई थी.

साफ़ चूत में मस्त लौड़ा डाल के चुदाई की

मैंने लौड़े को अब मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत के ऊपर रखा और धीरे धीरे कर के पूरा के पूरा लोड़ा मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत में घुसेड दिया…..! सोमवती आंटी आहा अह हह ह्हह्ह्ह्हाआ करती रही और मैं जोर जोर से उसकी चूत को छेद रहा था. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत की गर्मी मेरे लौड़े के ऊपर मजे से महसूस हो रही थी. मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत के अंदर जब पूरा लोड़ा जाता था तो वो मेरे लोड़ा को अंदर कस लेती थी. मेरे लोड़ा के ऊपर अजब दबाव आ जाता था और ऊपर से चूत की सेक्सी गर्मी. सही में बड़ी चुदक्कड थी मेरी गर्लफ्रेंड चंचल की माँ. मैंने अब सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की टांगो को थोडा ऊपर किया और फिर उन्हें उठा के अपने कंधे के ऊपर रख दिया. सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत में मेरा लोड़ा इस वक्त भी धरा के धरा हुआ ही था. मैंने मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की दोनों टांगो को कंधे पर रखते ही मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत के अंदर जैसे की मेरा लोड़ा और भी धंस गया. मुझे लगा की मैं चूत के अंदर लौड़े को और घुसाने में सफल हुआ था. अब मैंने मेरी गर्लफ्रेंड की माँ के घुटनों के पीछे वाले हिस्से में अपने हाथ दिए और मैंने जोर जोर से मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की चूत को मारने लगा. सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ भी जैसे की आज लोड़ा को परास्त करने के मुड में थी. उसने भी चूत उठा उठा के मुझे से चुदाई करवाई. 10 मिनिट की हार्डकोर चुदाई के बाद जब मेरा लोड़ा पानी छोड़ने वाला था तभी मेरी गर्लफ्रेंड की माँ ने मुझे लोड़ा चूत में से बहार करने के लिए कहा.

जैसे ही मैंने लौड़े को चूत से बहार निकाला, मेरी गर्लफ्रेंड की माँ निचे बैठ के मुहं के अंदर लोड़ा को लेके उसे जोर जोर से चूसने लगी. चूत में से निकले लौड़े को पानी छोड़ने में जरा भी देर नहीं हुई और यह भूखी शेरनी जैसी सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ सारा मुठ पी गई. हमने कपडे पहन लिए और सोमवती मेरी गर्लफ्रेंड की माँ मेरे लिए नास्ता ले के आई. कुछ मिनिट बाद चंचल भी आ गई. मैंने एक घंटे के बाद उसकी चूत को भी लोड़ा से दे मारा. अब मैं अक्सर जब अंकल नहीं होते तब इनके घर आता जाता हूँ, चंचल मिली तो ठीक हैं नहीं तो मेरी गर्लफ्रेंड की माँ की गांड और चूत तो मेरे स्वागत में खुली ही रहती हैं

दोस्तों  आपको गर्लफ्रेंड के घर जाकर उसकी माँ सोमवती की चुदाई ( Girlfriend ki Maa Ki Chudai )– Girlfriend ki maa Ke Sath Sex Ki Ek Jabardast Kahani पसंद आई तो इस कहानी को अपने ऐसे दोस्त के साथ शेयर जरुर करे जो hindi Sex Ki Kahani पढने का शौंक रखता हो और दोस्तों इस hindi Sex Stories website पर हम डेली New Hindi Sex Story अपडेट करते रहते है

Tags

antarvasna Beta maa, desi maa ki chudai story, dost ki maa ki chudai, pados wali maa ki chudai, padosan ki chudai ki kahani, savita audio sexy kahani, sex kahani maa, sexy kahani maa, sexy maa story, maa chudai ki kahani, maa chudai story, maa hindi story, maa ke sath sex kahani, maa ke sath sex story, maa ki behan ko choda, maa ki chudai hindi kahani, maa ki chudai hindi story, maa ki chudai kahani hindi, maa ki chudai ki kahani hindi, maa ki chudai ki kahani hindi mein, maa ki chudai ki story, maa ki chut kahani, maa ki sex kahani, maa ki sex story, maa ko choda kahani, maa sex kahaniya, maa Beta ki chudai kahani, maa Beta ki chudai ki kahani, maa Beta sexy story, maasexstory, Beta maa chudai kahani, Beta maa ki chudai kahani, Beta maa ki chudai ki kahani, Beta maa ki sexy kahani, Beta maa sexy story, xxx maa kahani

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *